Why You Should be Hopeless

Why You Should be Hopeless-उम्मीद मत छोड़ना तुम

उम्मीद मत छोड़ना तुम-Why You Should be Hopeless

लाइफ में जब तक उम्मीद और आशा की किरण शेष रहती है, तब यकीन मानिए कि अभी बहुत कुछ शेष है. भले ही सब कुछ चला जाये, किंतु अंत तक उम्मीद का दामन जरूर थामे रखना है. यही आशा की किरण ही अंधेरे में भी हमारी अँधेरी और कठिन राह को भी रोशन करती रहती है.

दोस्तों, यदि कोई इंसान हार कर भी मुस्कराना जानता है तो तनिक विचार कीजिये कि उसका आत्म बल कितना अधिक शक्तिशाली होगा? वह अपने अंतर्मन में कितने अच्छे तरीके से विचारों को सुव्यवस्थित रखता होगा. तो आइये, आज की पोस्ट-उम्मीद मत छोड़ना तुम (Why You Should be Hopeless) में हम भी उम्मीद की किरण खुद में कैसे प्रज्जवलित रख सकते हैं, इसी के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे.

उम्मीद किसे कहते हैं (Hope meaning in Hindi)

उम्मीद वह मजबूत स्तंभ है, जिसके बल पर हम जीवन रूपी गाड़ी में आने वाले उतार-चढ़ावों को बड़ी ही आसानी से संभाल सकते हैं. हमें यह विश्वास रखना होगा कि हम अपना बैलेंस बनाते हुए, दिल और दिमाग में संतुलन रखते हुए, उम्मीद को अपने हृदय में संजोये हुए अपनी मंजिल को देर-सवेर जरूर ही पा लेंगे.

रात कितनी ही काली और घनघोर क्यों ना हो, वह सूर्योदय के समय होने वाले उजाले को कभी भी नहीं रोक सकती. काली अंधेरी रात के बाद उजली सुबह जरूर आती है. जो कोई अपने मन में यह विश्वास रखता है कि लाइफ के काले घने अंधेरे एक रोज जरूर छँट जाएंगे और फिर खुशियों के सूरज जरूर उगेंगे- यही उम्मीद है, आशा है. जो उनके जीवन में प्रकाश की उजली किरण बन फिर चहुँ ओर उजियारा फैला देती है. इसलिये हर हाल में अपनी उम्मीदों को जीवंत बनाये रखें.

“जीवन में भले सब कुछ खो जाये मगर उम्मीद मत खोना तुम 

चाहे लाख मुसीबतें आयें जिन्दगी में पर कभी भी मत रोना तुम 

जो चला गया सब कुछ तो फिर से लौट आएगा एक दिन जरुर 

हौंसला रखना मन में कभी भी धैर्य का दामन मत छोड़ना तुम “

उम्मीद का दामन कैसे थामे रखें (How to be Hopeful in Life)?

निराशा को मन से हटा दें

दो दोस्त होते हैं. पहले दोस्त को हर जगह, हर चीज में नाउम्मीदी दिखाई पड़ती है. उसे लगता है कि अब उसका कुछ नहीं हो सकता. वहीं दूसरी तरफ, दूसरे दोस्त को हर बात में उम्मीद की एक किरण दिखाई देती है कि यहां पर बहुत कुछ किया जा सकता है. वो हर बात में अंतर्निहित संभावना को देखता है.

आप खुद अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कौनसा दोस्त अपनी लाइफ में बेहतर कर पायेगा? जिसको हर जगह उम्मीद एवं संभावना दिखाई देती है, वही दोस्त अपने जीवन को प्रफुल्लित एवं बहुत ही बेहतर तरीके से जीने में कामयाब रहेगा.

यहाँ अंतर कहाँ उत्पन्न हुआ? पहला दोस्त घोर निराशावादी है, वह हर बात को लेकर नाउम्मीदी रखता है. दूसरा दोस्त निराशात्मक विचारों को अपने पास फटकने भी नहीं देता. दोस्तों, हमें भी अपनी लाइफ में ऐसे ही एटीट्यूड की जरूरत है.

जीवन में कभी भूल कर भी निराश नहीं होना, क्योंकि अगर सही तरीके से देखेंगे तो हम पायेंगे कि हर जगह एक उम्मीद की किरण अवश्य ही होती है, बस हमें स्वयं के देखने के तरीकों में थोड़ा बदलाव करके देखने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें : You Can Do It-तुम इसे कर सकते हो

सकारात्मकता को स्थान दें

हमारे मन-मस्तिष्क में सदैव पाजिटिव और नेगेटिव दोनों प्रकार के विचार निरंतर चलायमान रहते हैं.जब हम सकारात्मक विचारों पर ध्यान केंद्रित करते हैं तो हमारी लाइफ में सब कुछ अच्छा चलता दिखाई देता है. परंतु जब हम नकारात्मक विचारों को अपनी जिंदगी में बहुत अधिक स्थान दे देते हैं तो जीवन में कुछ भी ठीक घटित होता नहीं दिखता. ये हम सबके साथ होता है.

“सब विचारों का ही खेल है ये विचार परिवर्तन करो तुम 

अपनी सोच को बुलंद रखने का हर एक जतन करो तुम 

जिस राह पर चलकर महापुरुष दुनिया में सफल हो गए 

उम्मीद रखो मन में और उस रास्ते का गमन करो तुम ” 

नकारात्मक दृष्टिकोण वाला व्यक्ति कभी भी लाइफ को सकारात्मक चश्मे से नहीं देखता. उसे लगता है कि जिंदगी में कुछ भी तो अच्छा नहीं है. जो कुछ बुरा होता है, बस सारी दुनिया में एक उसी के साथ होता है. उसे ऐसा लगातार लगता है और सच में फिर उसके साथ कभी कुछ ठीक होगा भी नहीं.

क्योंकि वह अपने जीवन में पूर्णतया नाउम्मीदी का दामन थाम बैठा है. अगर वह नकारात्मक विचारों के स्थान पर सकारात्मक सोचे तो उसकी लाइफ को भी अच्छे रूप में बदलते देर नहीं लगेगी. दोस्तों, हमें सदैव लाइफ में सकारात्मकता रखने का हर संभव प्रयास करना है. क्योंकि सकारात्मकता का आशा और उम्मीद से गहन संबंध है.

Why You Should be Hopeless
Why You Should be Hopeless

अपनी ऊर्जा को नष्ट होने से बचाकर रखें

क्या हुआ, जो प्यार में धोखा खा बैठे? क्या हो गया जो मनचाहे प्रेम को प्राप्त नहीं कर सके ? अब अपने बंद कमरे में बैठकर निरंतर आँसू ढ़लकाने से क्या हासिल कर लेंगे आप? कभी इस बारे में तनिक विचार किया है कि आपके साथ जो हुआ, वो बहुत लोगों के साथ भी पहले हो चुका है, वर्तमान में भी हो रहा है एवं आगे भी होता रहेगा.

आप क्यों नहीं, ऐसे वक्त में ये विचार करते कि जो हुआ, अच्छे के लिए हुआ. अब आपको सबक मिल गया है, जिससे आप भविष्य में धोखा खाने से बच जायेंगे. आपको अब ध्यान इन सबसे परे हटा कर अपनी खुद की लाइफ में बारे में विचार करना है. स्वयं को ये बतायें कि इतने मात्र से जीवन का अंत नहीं हो जाता.

लोग जिंदगी में आते-जाते रहते हैं. हमेशा के लिए कोई किसी के साथ भला रह भी कब पाया है! आपको अब अपनी जिंदगी का मकसद तलाशना होगा और अपने सपनों को साकार करने में अपनी समस्त ऊर्जा लगा देनी होगी.

जब आप अपनी लाइफ में कुछ अच्छा कर लेंगे, कुछ बन जायेंगे तो हो सकता है, जो आपको छोड़ कर चला गया, फिर से लौट आये. इसलिये आपको नाउम्मीद किसी भी सूरत में नहीं होना है. आशा की मशाल खुद के दिल में जलाये रखनी है.

“सुनहरे सपनों को अपनी प्यारी-प्यारी आँखों में सजाये रखो तुम 

कैसी भी परिस्थिति हो खुद को हमेशा एक जैसा बनाये रखो तुम 

ग़मों की काली और अँधेरी रात सुबह होने पर जरुर ही ढल जाएगी 

उम्मीद की भभकती मशाल हरदम खुद के दिल में जलाये रखो तुम “

ये भी पढ़ें : Good Habits Speech-ऐसे बदलें बुरी आदतों को

अधिक से अधिक कितना बुरा होगा, ये विचार कीजिये

जब लाइफ में कुछ भी अच्छा नहीं चल रहा हो तो थोड़ी देर ठहरिये, तनिक विश्राम लीजिये. फिर ठंडे दिमाग से सोचिये कि अभी जो कुछ हो रहा है, क्या उससे भी बुरा कुछ हो सकता है? सबसे बुरा क्या हो सकता है, उसकी कल्पना भी आप जरूर कर के देख लीजिये. आप स्वयं समझ जायेंगे कि इससे बुरा तो अब आपकी लाइफ में कुछ होने से रहा.

तो अब बाकी क्या रहा ? तो सुनिए,अब शेष जो रहा, वो है आपकी लाइफ का सबसे अच्छा समय-जिसका आरंभ होना अभी शेष है. तो इसी उम्मीद के सहारे कि अब तो सब कुछ अच्छा ही होगा, अपनी समस्त शक्तियों को लाइफ को बेहतर बनाने की दिशा में झोंक दीजिए. कुछ समय पश्चात आप पायेंगे कि आशा और उम्मीद की किरणों के सहारे आपने अपनी लाइफ को मनचाहे रूप में परिवर्तित कर दिया है. ये उम्मीद ही तो थी, जिसने आपको आश्वासन दिया था कि अब से सब कुछ ठीक हो जायेगा.

जिंदगी में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं

जीवन में सुख-दुख, नफा-नुकसान इत्यादि निरंतर होते ही रहते हैं. ये भी जिंदगी का एक हिस्सा है. आप जब कभी बहुत गहरी विपत्ति में फँस जायें और निकलने का कोई भी रास्ता नहीं दिखाई दे  तो अपने दिल पर हाथ रख कर सोचना कि यह भी गुजर जाएगा. और सच में ही फिर एक दिन बुरे से बुरा वक्त भी गुजर जाता है.

जीवन में कुछ भी स्थाई नहीं है, सब कुछ चलायमान है. काल का पहिया निरंतर घूमता रहता है. लाइफ के उतार-चढ़ाव हमारे लिए एक स्पीड ब्रेकर का कार्य करते हैं. अगर हमारी स्पीड बहुत ज्यादा होती है तो गिर जाने का खतरा हो जाता है  और यदि स्पीड बहुत स्लो होती है तो हमारे पीछे रह जाने का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए जीवन में उतार चढ़ाव में भी सामान्य स्थिति को बनाए रखना बहुत आवश्यक हो जाता है. हमें सदैव उम्मीद के दामन को थामे रहना है क्योंकि लाइफ में हर चीज में बैलेंस बनाये रखना बहुत जरुरी है.

मन से नहीं हारना है

बहुत बार  लगता है कि अब बस बहुत हुआ. हमारा शरीर अब पूर्ण रूप से थक कर निढाल हो गया है और हम थकन से चकनाचूर हो गये हैं.अब हम में और हिम्मत नहीं बची है. दोस्तों ऐसे समय में हम शरीर से भले ही हार जाएं, लेकिन हमें मन से हार नहीं माननी है.

हम अगर मन से कृतसंकल्पित हैं कि एक दिन हमारी कोशिशें रंग लायेंगी और हम जरूर विजयी होंगे तो यकीन मानिए हमारी यही आशा और उम्मीद हमको कामयाब बनाने में बहुत अधिक सहायक सिद्ध होगी. अतः हमें बार-बार स्वयं को इसी बात का स्मरण कराते रहना है कि हम अपनी जीत को लेकर पूरी तरह आशान्वित हैं और हर हाल में जीत का सेहरा हमारे सर को सुशोभित करेगा.

इसका वीडियो भी देखें : 

अगर आपको वीडियो देखना पसंद है तो हमारे YouTube channel पर visit कीजिये, जिसका नाम है दिल से शायरी.

तो दोस्तों ! ये थी आज की पोस्ट-उम्मीद मत छोड़ना तुम (Why You Should be Hopeless).आज की ये पोस्टआपको कैसी लगी, हमें अपनी राय या Suggestion जरुर बताइयेगा. और भी ऐसे बेहतरीन लेख पाने के लिए आप हमें Subscribe जरुर कीजिये.

2 thoughts on “Why You Should be Hopeless-उम्मीद मत छोड़ना तुम”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!